बसन्तीकरण एवं दीप्तिकालिता में क्या अन्तर है स्पष्ट कीजिए?

Agriculture Studyy
0

बसन्तीकरण एवं दीप्तिकालिता में अन्तर - शीत अभिक्रिया द्वारा पुष्पन प्रारम्भन में विशेषित वर्धन को बसन्तीकरण (vernalization in hindi) ओर प्रदीप्ति तथा पौधों में पुष्पन पर अप्रदीप्ति अवधि की अनुक्रिया को दीप्तिकालिता (photoperiodism in hindi) कहा जाता है ।

बसन्तीकरण एवं दीप्तिकालिता में क्या अन्तर है? | difference between vernalization and photoperiodism in hindi

बसन्तीकरण एवं दीप्तिकालिता में क्या अन्तर है स्पष्ट कीजिए, difference between vernalization and photoperiodism in hindi, बसन्तीकरण एवं दीप्तिकालिता में अन्तर
बसन्तीकरण एवं दीप्तिकालिता में क्या अन्तर है स्पष्ट कीजिए?

ये भी पढ़ें :-

बसन्तीकरण एवं दीप्तिकालिता में अन्तर (difference between vernalization and photoperiodism in hindi)-

  • बसन्तीकरण क्रिया में पुष्पन तापमान से प्रभावित होता है तथा बीजों को शीत उपचार (cold treatment) देते है जबकि दीप्तिकालिता क्रिया में पुष्पन प्रदीप्तिकाली से प्रभावित होता है । पौधे अल्प प्रदीप्तिकाली (SDP) एवं दिवस निरपेक्ष होते है ।
  • बसन्तीकरण क्रिया से पौधे पुष्पन के लिये तैयार होते है और दीप्तिकालिता क्रिया में पौधे पुष्पन की क्रिया दर्शाते है ।
  • बसन्तीकरण का उद्दीपन (stimulus) प्ररोह शीर्ष, भ्रूण के शीर्ष की कोशिकाओं से प्राप्त होता है जबकि दीप्तिकालिता में उद्दीपन पत्तियों से प्राप्त होता है ।
  • बसन्तीकरण वर्नेलिन (vernalin) के कारण होता है जबकि दीप्तिकालिता फ्लोरिजन (florigen) के कारण होता है ।
  • बसन्तीकरण ग्राफ्टिंग के द्वारा उद्दीपन एक से दूसरे पौधे में स्थानान्तरित नहीं किया जा सकता है जबकि दीप्तिकालिता को ग्राफ्टिंग के द्वारा उद्दीपन एक से दूसरे पौधे में स्थानान्तरित किया जा सकता है ।
  • बसन्तीकरण की क्रिया अधिक तापमान से परिवर्तनीय (reversible) है और दीप्तिकालिता एक बार मिला उद्दीपन परिवर्तनीय नहीं है ।
  • बसन्तीकरण में उद्दीपन को ग्रहण करने वाले पदार्थ का अभी ठीक से पता नहीं चला है जबकि दीप्तिकालिता में उद्दीपन फाइटोक्रोम (phytochrome) द्वारा ग्रहण किया जाता है ।
  • बसन्तीकरण यह क्रिया आर्कटिक क्षेत्र के पौधों में मिलती है जबकि दीप्तिकालिता यह संसार के सभी पौधों में देखने को मिलती है ।
Tags

Post a Comment

0Comments

Please do not enter any spam link in the comment box.

Post a Comment (0)