फसलों की सिंचाई एवं क्रांन्तिक अवस्थायें

क्रांन्तिक अवस्था के समय फसलों में सिंचाई ( Irrigation in crops during the critical Stages )

फसलों की क्रांन्तिक अवस्थायें ( Revolutionary stages of crops )


( 1 ) धान क्रांन्तिक अवस्थायें ( Rice critical Stages )


फसलों की सिंचाई एवं क्रांन्तिक अवस्थायें



धान की खेती के लिये अत्यधिक पानी की आवश्यकता होती है । यह अर्द्धजलीय पौधा है ।

धान की फसल में मुख्यतः चार क्रांतिक अवस्थायें ( Critical Stages ) होती है

( i ) पौध अवस्था

( ii ) किल्ले निकलने की अवस्था

( ii ) बाली बनना

( iv ) पुष्पावस्था से दाना पुष्ट होने की अवस्था ।

इन अवस्थाओं पर धान में सिंचाई की आवश्यकता होती है । धान के खेत में आवश्यक निश्चित गहराई तक पानी रुकना आवश्यक होता है ।

धान के खेत में 5 सेमी० खड़ा पानी लगाना चाहिये । जब पानी सूख जाये तो पुनः भर देना चाहिये ।

( 2 ) गेहूं क्रांन्तिक अवस्थायें ( Wheat critical Stages )


गेहूँ की जल माँग का अनुमान 180 से 120 मि० मीटर के मध्य ' लगाया गया है ।

पर्याप्त नमी बनाये रखने के लिये गेहूं की फसल में 4 से 6 सिंचाईयाँ आवश्यक हैं ।

गेहूं की फसल में सिंचाई को जाड़ों की वर्षा काफी प्रभावित करती है ।

गेहूँ की फसल में सिंचाई क्रांतिक / संवेदनशील अवस्था ( Critical / sensitive stage ) पर करनी चाहिये ।

( i ) जड़ निकलने की अवस्था पर अथवा बोने के 20 - 25 दिन के बाद

( ii ) किल्ले फूटने की अवस्था बोने के 40 - 45 दिन बाद

( iii ) तने एवं गाँठ बनने की अवस्था पर 50 से 60 दिन के बाद

( iv ) पुष्पावस्था — 85 से 90 दिन बाद ( v ) दूधियावस्था - 100 से 105 दिन बाद

( vi ) दाने पुष्ट होने की अवस्था - 115 से 120 दिन बाद । इन सभी अवस्थाओं पर आवश्यकतानुसार सिंचाई आवश्यक है ।

( 3 ) मक्का क्रांन्तिक अवस्थायें ( Maize critical Stages )


मक्का की फसल के लिये पानी की कमी एवं पानी की अधिकता दोनों स्थिति नुकसानदायक होती हैं ।

मक्का की सिंचाई भूमि की किस्म एवं उगने के मौसम के अनुसार अन्तर आता है ।

मक्के की फसल की क्रांतिक अवस्थायें

( i ) वानस्पतिक वृद्धिकाल — यह फसल बोने के 20 से 40 दिन बाद तक होता है ।

( ii ) नर पुष्प निकलने की अवस्था

( iii ) रेशमी बाल निकलने की अवस्था

( iv ) तीव्र वानस्पतिक वृद्धि अवस्था

( v ) दूधियावस्था क्रांतिक अवस्थाओं पर सिंचाई की आवश्यकता होती है । सिंचाई के अभाव में उत्पादन में कमी आ जाती है ।

( 4 ) अन्य फसलें ( Other Crops )


( i ) कपास क्रांन्तिक अवस्थायें ( Cotton critical stages )


कपास की फसल नमी संवेदनशील होती है । इसकी जल माँग 400 से 700 मी० मी० है ।

वृद्धि की विभिन्न अवस्थाओं में जल माँग में अन्तर आ जाता है ।

जलवायु सम्बन्धित आंकड़ों के आधार पर इसमें 0 - 6 से 0 - 75 सिंचाई जल / संचयी पैन वाष्पमापी अनुपात पर सिंचाई करनी चाहिये ।

( ii ) गन्ना क्रांन्तिक अवस्थायें ( Sugarcane critical stages )


इस फसल में तना अत्यंत उपयोगी होता है । इस फसल | को निरन्तर नमी की आवश्यकता होती है ।

गन्ने की कटाई से पहले कम मात्रा में सिंचाई करने  से गन्ने के रस में मिठास ( शर्करा ) बढ़ जाती है ।

गन्ने के पूर्ण वृद्धि काल में मृदा नमी स्तर 65 प्रतिशत बनाये रखना जरुरी होता है ।

इसकी सम्पूर्ण जल माँग 1800 से 2200 मि० मी० होती है ।

( iii ) चारे की फसलो की क्रांन्तिक अवस्थायें ( critical stages of fodder crops )


चारे की फसलों के अन्तर्गत बरसीम , लूसर्न , रिजका , नैपीयर घास , सूडान घास , गिनी घास आदि आती हैं । चारे की फसलों का सम्पूर्ण वानस्पतिक भाग उपयोगी होता है ।

इसे पर्याप्त मात्रा में जल आपूर्ति की आवश्यकता होती है । विभिन्न फसलों की जल माँग का स्तर अलग - अलग होता है ।

चारे की बहुवार्षिक फसलों से अधिक उपज लेने के लिये 0 - 75 सिंचाई जल / संचयी वाष्पमापी अनुपाते पर सिंचाई करनी चाहिये 

( iv ) तम्बाकू क्रांन्तिक अवस्थायें ( Tobacco critical stages )


तम्बाकू की जड़े अधिक गहरी एवं फैली हुई होती हैं । इसके लिये अधिक मृदा नमी हानिकारक होती है ।

इसकी जल माँग 450 से 500 मि० मी . होती है । इसके लिये 8 से 10 सिंचाईयों की आवश्यकता होती है ।

इसकी सिंचाई करते समय पानी की गुणवत्ता ( Quality ) पर ध्यान देना आवश्यक होता है ।

Post a Comment

Please do not enter any spam link in the comment box.

Previous Post Next Post